Header Ads

Shubhapallaba
  • Latest Post

    चाय की चुस्की


    वो सोंधी सोंधी सी खुसबू 
    मिट्टी के कुल्हड़ से 
    बहत याद आती हे
    जब भी हमे खुद को 
    जगाने का ख्याल आते है
    चाय की प्यालो को हाथो से 
    उठा लेता हूं औऱ मन हल्का 
    करने का वही पुरानी तरक़ीब
    फिर से आज़मा लेता हूं

    जब दिन ठहर जाए दो राह पर
    ये चाय ही तो हे जो
    सही गलत चुनने में मदद की हे
    अब अगर मन भी रूठ जाए
    इन्ही रोज़ मर्रा की जिंदगी से
    तो तुम्हारे हाथ की बनाई चाय की
    वो वाली बात हा वही वाली बात
    अकसर याद करलेता हु
    हर वो सलाह मशवरा भी जो
    तुम दिया करती थी 
    चाय की चुस्की के साथ साथ
    ज़िंदगी को बेहतर बनाने की

    बिस्किट डूबा के चाय पी
    लेने की वो लत जो तुमने
    लगाई थी वो आदत आज भी
    मेरे करीब है , नजाने फिर क्यो
    तनहाई ही मेरे नशीब है
    आज भी दिन भर सताती वही बात

    तुम चाय पिओगे क्या???

    No comments

    Post Top Ad

    Shubhapallaba

    Post Bottom Ad

    Shubhapallaba